खुद को कुबड़ी कहे जाने पर ‘इरा’ ने जो जवाब दिया उसे जरुर जानना चाहिए

725
ira singhal troll

किसी को भी आसानी से परखने की प्रवृति केवल हम इन्सानो में ही है और यही पर हम इंसान गलत है. बिना कोई जानकारी से परखना मूर्खता की बात है. कुछ लोगो की छोटी मानसिकता पूरे समुदाय की इज्जत बर्बाद कर सकती है. आपका समय ज्यादा ना लेते हुये मुद्दे की बात पर आता हूँ. तीन दिन पहले यानि 21 जुलाई को IAS topper batch 2014 इरा सिंघल अपने फेसबुक प्रोफाइल पर एक किस्सा शेयर करती है.

इरा सिंघल के फेसबुक प्रोफ़ाइल से स्क्रीनशॉट

जिसमे में वो लिखती है “ सभी को लगता है कि दिव्याङ्गजन को किसी भी बुरे हालात का सामना नहीं करना होता है, क्योकि दुनिया तो अच्छी और दयालु है. लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. “ दुनिया की सच्चाई दिखाने के लिए वो अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से भूपेश जसवाल नाम का एक कमेन्ट शेयर करती है. जिसे वो साइबर बुलिङ्ग का नाम देती है.

इरा सिंघल के फेसबुक प्रोफ़ाइल से स्क्रीनशॉट

इसके आगे लिखती है “ दुर्भाग्य की बात है ये व्यक्ति यानि भूपेश जसवाल सिविल सेवा में जाना चाहता है. हमारी शिक्षा प्रणाली के अंदर अच्छा व्यक्ति बने ऐसी कोई व्यवस्था होनी चाहिए “.

इरा सिंघल के फेसबुक प्रोफ़ाइल का स्क्रीनशॉट

फिर इस पोस्ट पर उनके चाहने वाले लिखते है भूपेश को सजा मिलनी चाहिए. इस पर इरा कहती है सजा देने से बात सुधरेगी नहीं बल्कि नकारात्मकता बढ़ेगी. इंस्टाग्राम के उस कमेन्ट में भूपेश ने कुबड़ी लिखा था जिसका जवाब इरा ने इस तरह दिया मुझे पता है मैं कुबड़ी हूँ बताने की जरूरत नहीं है. किसी फंक्शन की तस्वीर को शेयर करने पर उन्हे ऐसा कमेन्ट आया.

#कौन है इरा सिंघल?

इरा सिंघल अपने माता-पिता के साथ

इरा सिंघल 2014 बैच की IAS topper है. उससे पहले इरा ने अपना पहला UPSC परीक्षा 2010 में दिया था जिसमे उनकी 815वी रैंक आई थी. लेकिन उन्हे IRS की पोस्ट पर्सन वीथ डिसेबिलिटी के कारण नही मिली. इरा ने हार नहीं मानी उन्होने साल 2012 में कैट के अंदर मुकदमा दायर किया जिसका फैसला उनके पक्ष में आया और 2014 में IAS टॉप करने वाली पहली दिव्याङ्ग बनी. अभी इरा दिल्ली के केशवपुरम जॉन में डिप्टी कमिश्नर के रूप में तैनात है. इरा ने अपनी स्कूली पढ़ाई मेरठ और दिल्ली से की और नेताजी सुभाष इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलोजी से कंप्यूटर इंजीनियरिंग की और यूनिवर्सिटी ऑफ दिल्ली से MBA की पढ़ाई पूरी की. इरा के पिताजी इंजीनियर और माताजी इंश्योरेंस सलाहकार है.

इरा सिंघल

इरा रीढ़ संबंधी बीमारी स्कोलियोसिस से जूझ रही है. जिसके अंदर हाथो और कंधों का ठीक से मूवमेंट नहीं हो पाता है. इरा जैसे और भी इस दुनिया में होंगे जो अपनी काबिलियत पर अपने मुकाम पर पहुंचे होंगे. अपनी खामियो को पहचान कर किसी के आगे भीख ना मांग कर अपने को खड़ा करना वाकई में एक मिसाल है.

द पंचायत इरा सिंघल और इनके जैसे सारे काबिल लोगो को उनके जज़्बे के लिए सलाम करता है. कुछ लोगो की छोटी मानसिकता के कारण ऐसे हौसलों से परिपूर्ण लोगों को सुनना पड़ता है, जो कि निंदनीय है. खैर, भूपेश को एक सबक मिल गया होगा और आगे से ऐसे कदम नही उठाएगा.

the panchayat

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here