यूपी पुलिस ने काट दिया बैलगाड़ी का भी चालान फिर कर दिया कैंसिल

1084
bullock cart at road
सांकेतिक चित्र / फ़ोटो :

नया मोटर वाहन अधिनियम लागू होने के बाद पुलिस वाले दे-दनादन तरीके से चालान काट रहे है. किसी के हजारों में तो किसी के लाखों में चालान काटा जा रहा है. मतलब कि पुलिस वाले किसी को भी नहीं छोड़ रहे. जो पकड़ा गया उसका चालान बनना फ़िक्स है. इसी बीच उत्तर प्रदेश से एक बड़ी ही अजीबो-गरीब ख़बर सामने आई है या यूं कह ले कि हैरान करने वाली ख़बर सामने आई है. चलिये जानते है उस ख़बर को.

bullock cart in field
सांकेतिक चित्र / फ़ोटो : pinterest

उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के साहसपुर में सब इंस्पेक्टर पंकज कुमार की लीडरशिप में अपने इलाके में पुलिस की टीम गश्त लगा रही थी. तब किसी खेत के आगे खड़ी एक बैलगाड़ी का चालान काट कर उस बैलगाड़ी के मालिक के घर पहुंचा दिया. जी हाँ, सही सुना आपने यूपी पुलिस ने बैलगाड़ी का भी चालान काट दिया और वो भी एक हजार रुपए का.

bullock cart at road
सांकेतिक चित्र / फ़ोटो : freepik

मामला शुरू होता है 14 सितंबर को. रियाज हसन अपने खेत के बगल में बैलगाड़ी को खड़ा करता है. तब वहाँ पर गश्त कर रही पुलिस की टीम की नज़र उस बैलगाड़ी पर पड़ी. बैलगाड़ी के आस-पास कोई नहीं होने के कारण पुलिस वालों ने ग्रामीणो से पूछताछ की. पूछताछ में मालूम पड़ा कि ये बैलगाड़ी रियाज की है. फिर पुलिस ने नए मोटर वाहन अधिनियम के सेक्शन 81 के तहत 1 हजार का चालान रियाज के नाम काट दिया गया और चालान को उसके घर पहुंचाया गया.

bullock cart ride
सांकेतिक चित्र / फ़ोटो : danawwaresort

जब रियाज के पास चालान आया तो उसने पुलिस वालों से पूछा कि उसने अपने खेत के बाहर ही बैलगाड़ी खड़ी की थी तो उसका चालान कैसे कट सकता है. फिर जब पुलिस वालों ने नए मोटर वाहन अधिनियम के प्रावधान को देखा तो रविवार 15 सितंबर को उसका चालान रद्द कर दिया. क्योंकि इस अधिनियम के तहत बैलगाड़ी से जुड़ा कोई प्रावधान निहित ही नहीं है.

bullock cart
सांकेतिक चित्र / फ़ोटो : tripadvisor

जब इस मामले पर साहसपुर थाना प्रभारी पीडी भट्ट से पूछा गया तो उन्होने कहा कि जहाँ पुलिस गश्त कर रही थी वो इलाका बालू रेत के अवैध खनन के लिए जाना जाता है. बैलगाड़ी दिखने पर पुलिस को लगा होगा कि ये बालू रेत को ले जाने में इस्तेमाल की गयी होगी. तो गलती से आईपीसी की धारा लगाने के बजाय मोटर व्हीकल एक्ट की धारा लगा कर चालान काट दिया गया. हालांकि अब उसका चालान कैंसिल कर दिया गया है.

the panchayat

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here