जोमाटो का बचाव करने आई उबर इट्स लेकिन खुद फँस गई

640
UberEats Steps In To Support Zomato

टेक्नोलोजी का यूज हमारी आम जिंदगी का हिस्सा बन चुकी है. मोबाइल से लेकर वॉशिंग मशीन तक और पीने से लेकर खाने तक. बीवी नाराज हो और पति को खाना नहीं बनाना आए तो पति खाना ऑनलाइन मंगा लेता है. ऑनलाइन ऑर्डर से अपने को जोमाटो [ zomato ], स्विगी [ swiggy ] और उबर इट्स [ uber eats ] जैसी कंपनी याद आती है. जोमाटो कंपनी तो याद ही होगी अरे वो ही जिसके एक डिलीवरी बॉय ने ऑर्डर में से खाना खा लिया था और उसका विडियो वायरल हो गया था. अब वापस जोमाटो कंपनी विवादो में घिर चुकी है लेकिन अपने साथ उबर इट्स को भी चपेट में ले लिया.

मध्यप्रदेश के रहने वाले एक शख्स जिनका नाम पंडित अमित शुक्ल है. उन्होने एक ट्वीट किया जिसमें उन्होने ज़ोमाटों कंपनी को टैग करते हुये लिखा मेरा ऑर्डर एक गैर हिन्दू ला रहा है इसलिए आप मेरा ऑर्डर कैंसल कर दो.

इस ट्वीट का रिप्लाई करते हुये जोमाटो लिखता है खाने का कोई धर्म नहीं होता है. यह खुद एक धर्म है. इन दो ट्वीट्स के बाद ट्विटर पर दो धड़े बन गये. एक धड़ा जोमाटो ने जो लिखा उसकी तारीफे और अमित की आलोचना करता हुआ नजर आ रहा था वही दूसरा धड़ा अमित के साथ खड़ा था.

अमित यही नहीं रुके एक के बाद एक जोमाटो के साथ चैट का स्क्रीनशॉट शेयर करते है उस स्क्रीनशॉट में डिलीवरी नहीं लेने का कारण लिखा हुआ होता है. अमित जोमाटो को लिखते है श्रावण महीना चल रहा है इसलिए मैं मुस्लिम डिलीवरी बॉय से ऑर्डर नहीं ले सकता. उस चैट में जोमाटो कहती है कि हम अपने डिलीवरी बॉयज के साथ भेदभाव नहीं करते है. आशा करते है आप समझ गये होंगे.

UberEats, the online food ordering unit of the Ryder-Healing company Uber, has recently stepped forward to support its rival Zomato.
Zomato And Wajid Tweets

जोमाटो के रिप्लाई वाले ट्वीट ने बड़े बड़े लोगो को भी अपनी ओर आकर्षित किया और सभी ने इस बात का समर्थन किया. हालांकि कुछ लोगो ने जोमाटो को पक्षपाती भी ठहराया. हुआ यूं कि वाजिद नाम के एक शख़्स ने 16 मई को कुछ ऑर्डर किया था जो बिना हलाल किया हुया निकला. तब उसने ट्वीट कर बताया की आप अपने एप में स्पेसिफ़ाई करे हलाल और बिना हलाल का खाना कौनसा है. जोमाटो ने वाजिद के ट्वीट का रिप्लाई करते हुये लिखा आप अपना ऑर्डर नंबर दीजिये हम आपकी मदद कर देंगे.

ट्विटर पर जोमाटो के इस दोहरे रवैये पर कड़ी आलोचना की जा रही थी तभी जोमाटो ने एक सेफ तरीका निकाल दिया उन्होने एक इमेज वाली ट्वीट डाली. उस इमेज में बारीकी से खाने के ऊपर समझाया गया है.

इसी बीच चेरी डिम्पल नाम की महिला ने एक ट्वीट करके पंडित जी की हालात ख़राब कर दी उन्होने लिखा की गैर हिन्दू लड़के से खाने नहीं ले सकते लेकिन गैर हिन्दू महिला पर टीका टिप्पणी कर सकते है. हालांकि इस घटना के बाद पंडित अमित शुक्ल ने अपना ट्विटर अकाउंट ही डिलीट कर दिया. अमित की 2013 में आई एक ट्वीट पर बवाल मचने पर अमित ने ट्विटर से बाहर निकलना ही बेहतर समझा. अमित को क्या पता था आज के जमाने में लोग तो चले जाते है लेकिन स्क्रीनशॉट रह जाते है.

Uber Eats ने क्या कहा ?

ये जो बताया वो पूरा मसला जोमाटो कंपनी के साथ हुआ था. अब जानते है उबर इट्स कैसे फंस गयी. जोमाटो का समर्थन करने उबर इट्स कंपनी ने एक ट्वीट किया जिसे लोगो ने आड़े हाथ ले लिया. उस ट्वीट में उबर इट्स मे लिखा जोमाटो हम तुम्हारे साथ खड़े है.

ये ट्वीट ट्विटर की गलियो में आने के बाद यूजर्स ने जम के उबर इट्स का विरोध किया. अगर आप ट्विटर पर उबर इट्स खँगालोगे तो आप को #BoycottUberEats ट्रेंडिंग में नजर आ जाएगा. विनीता राजपूत नाम की यूजर लिखती है डियर जोमाटो, मैं अपने फोन से आपका एप अनइंसटोल कर रही हूँ और डियर उबर इट्स मैंने अब तक आपकी सर्विस नहीं ली है और आज के बाद कभी भी नहीं लूँगी. असल में उबर इट्स ने आग में घी डालने का काम कर रही थी लेकिन उसी आग में खुद जल गया. उबर इट्स ने ट्वीट करने से पहले सोचा नहीं होगा की जो वो ट्वीट करेगा वो अपनी कंपनी के लिए नुकसानदायक होगा.

इन्ही के बीच यूजर्स ने कहा कि इन दोनों यानि उबर इट्स और जोमाटो के कांड के बाद स्वीगी मौज मना रहा होगा. मन ही मन हंस रहा होगा. टीएमसी गून के यूजर ने ट्वीट करते हुये लिखा कि अब स्वीगी ऑफिस में सारे कर्मचारी नाच गाने के साथ जश्न मना रहे होंगे.

द पंचायत का मानना है हर कोई दूध का धुला नहीं होता है लेकिन जोमाटो जैसी कंपनी को दोहरा रवैया नहीं अपनाना चाहिये. ऐसे पक्षपात से आपकी इज्जत ही धूमिल होगी और उम्मीद करते है आगे से जोमाटो कंपनी दोहरा रवैया अपनाने से बचेगी.

the panchayat

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here