ग्राहकों के फ़ायदे वाला नया कानून राज्यसभा में पास हो गया है

712
Photo : LSTV

मंगलवार को राज्य सभा में उपभोक्ताओं के हितों से सम्बंधित जो उपभोक्ता संरक्षण बिल [ Consumer protection bill ] पिछले कई सालों से अटका हुआ था उसे मंज़ूरी दे दी गयी है। इस बिल को लोकसभा में पहले ही पास कर दिया गया है। उपभोक्ता संरक्षण बिल में उपभोक्ताओं के अधिकारों को और भी मज़बूत करने पर ध्यान दिया गया है। बिल के अनुसार उपभोक्ताओं के लिए उपभोक्ता फोरम राष्ट्रीय उपभोक्ता आयोग बनाया जायेगा। इसके तहत उपभोक्ता किसी भी सेवा या वस्तु में कमी की शिकायत इन आयोग में दर्ज कर सकते है। बिल पर जब चर्चा हुई तो उपभोक्ता मामलो के मंत्री राम विलास पासवान ने कहा की नियम बनाते समय सभी सदस्यों का सुझाव भी लिया जायेगा। उनका कहना है कि सदस्यों ने पहले भी एक बार इस बिल में हेल्थ केयर को शामिल करने का सुझाव दिया था लेकिन सर्वोच्च न्यायालय [ Supreme Court ] ने इसे ख़ारिज कर दिया है। बिल में यह भी बताया गया है कि किसी भी ख़राब सामान का प्रचार करने पर प्रचार करने वाले को सजा का भुगतान करना पड़ेगा।

Photo : LSTV

बिल पास होने के क्या फायदे होंगे ?

कोई भी उपभोक्ता अब किसी भी खराब वस्तु की शिकायत नज़दीकी जिला उपभोक्ता आयोग में दर्ज कर सकता है। इस से पहले उपभोक्ता को शिकायत दर्ज करने के लिए वस्तुए बेचने वाले के ऑफिस जाना पड़ता था। इस नियम से उपभोक्ताओं को शिकायत दर्ज करने में किसी प्रकार की परेशानी नहीं उठानी होगी।

विक्रेता द्वारा बेचीं गयी किसी भी वस्तु से अगर उपभोक्ता को किसी भी प्रकार का नुक्सान होता है तो वो विक्रेता एवं वास्तु के खिलाफ शिकायत दर्ज कर सकता है।

गलत वस्तु के बेचने पर, उपभोक्ता के अधिकारों का उल्लंघन करने पर या किसी भीवस्तु का गलत प्रचार करने पर उपभोक्ता उसकी शिकायत दर्ज कर सकता है। शिकायत दर्ज होने के बाद उन्हें जिला कलेक्टर, क्षेत्रीय कार्यालय के अधिकारी या केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण के पास भेज दिया जायेगा जिसके बाद वे किसी भी प्रकार कार्रवाई विक्रेता सकते हैं।

नए नियमों के अनुसार उपभोक्ता अपनी शिकायत अगर वीडियो कॉल के माध्यम से दर्ज करना चाहता है तो आयोग को उसकी अनुमति देनी होगी। इस नियम से सरकार का उद्देश्य सभी की शिकायतों को सुनना है।

उपभोक्ता द्वारा दर्ज की हुई शिकायत को अधिकारी स्वीकार करने से मना नहीं कर सकता है। ऐसा करने पर उपभोक्ता को पूरा अधिकार है ये जान ने का कि उसकी शिकायत ख़ारिज आखिर क्यों किया गया है।

the panchayat

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here