5 साल की बच्ची के साथ किया था रेप कोर्ट ने 9 महीने में ही सुनाया फांसी का फ़ैसला

397
MP: Court awards death sentence to man accused of raping, murdering minor
File photo

बलात्कारियों के लिए एक ही सजा होनी चाहिए और वो सजा फांसी का फंदा होना चाहिये. ये सभी पीड़ित परिवार का कहना होता है. जब किसी बलात्कारी को फांसी पर लटकाने का आदेश आता है तो सबसे ज्यादा खुशी पीड़िता के पिता को होती है. ऐसी ही एक घटना मध्य प्रदेश में देखने को मिली.

MP: Court awards death sentence to man accused of raping, murdering minor
File photo

मध्य प्रदेश के पिपरिया जिले की अदालत ने पाँच साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म करने के मामले में आरोपी दीपक किरार को सोमवार 29 जुलाई को फांसी की सजा सुनाई. सजा सुनाते हुये जज ने कहा ये एक घिनौना अपराध है इसकी सजा केवल फांसी ही है. फैसला आने के बाद पीड़िता के पिता ने कहा अगर कोर्ट में ऐसे कठोर फैसले लिए जाएंगे तो देश की हर बेटी सुरक्षित रहेगी.

जज केएन सिंह ने सजा सुनाने से पहले दीपक किरार से पूछा तुम्हें पता तो होगा कि आज तुम्हारी सजा का दिन है. इस पर दीपक कोई प्रतिक्रिया यानि रिप्लाई नहीं देता है. इसके बाद जज 98 पेज का फैसला 10 मिनट में सुनाते है. जज का अंतिम फैसला आरोपी को फांसी के फंदे पर लटकाने का आता है.

दरअसल, फैसले से पहले 25 जुलाई को सुनवाई हुयी थी और उस सुनवाई में पुलिस ने कोर्ट में 32 गवाह पेश किए थे. सुनवाई के बाद जज ने फैसला सुरक्षित कर लिया था और फैसला 29 जुलाई को सुनाया गया.

पिछले साल की 30 अक्टूबर को दीपक ने बच्ची के साथ दुष्कर्म जैसा घिनौना काम किया था. दीपक ने सबसे पहले बच्ची को चॉकलेट का लालच देकर अपनी साइकिल पर बैठाता है. फिर उसे ट्रेन से बुरहानपुर लेकर जाता है फिर वो वहाँ बच्ची के साथ दुष्कर्म करता है. दुष्कर्म करने के बाद बच्ची की हत्या करके उसके शव को झाड़ियों में फेंक देता है. जब आरोपी बच्ची को अपहरण करके अपनी साइकिल पर ले जा रहा था तब उस घटना को बच्ची के भाई ने देखा था और उसका पीछा भी किया था. मासूम के भाई को सुनवाई के दौरान पुलिस ने अपना पहला गवाह बनाया था.

the panchayat

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here