भिखारी के पास निकले पैसे ने उड़ाए सभी के होश 

803

क्या आप उम्मीद करते हैं कि कोई भिखारी भीख मांग मांगके लखपति बन जाये लेकिन मालदार बनने के बाद भी वो अपने पुराने धंधे यानी भीख मांगने को ना छोड़े. यहां हमारा मकसद किसी काम को छोटा बताना या मज़ाक उड़ाना नही है बल्कि एक ऐसी ही घटना हमारे सामने आई है जिसमें एक भीख मांगने वाला लाखों रुपए की सम्पत्ति का मालिक निकला है.बिना सस्पेस रखे सीधे खबर की तरफ चलते है.

दरअसल ये पूरा मामला मुम्बई से जुड़ा है. जीआरपी को 4 अक्टूबर को गोवंडी और मानखुर्द स्टेशन के बीच पटरी पर एक शव बरामद हुआ था.अब शव मिला था तो जीआरपी जानकारी तो जुटाती ही. जानकारी जुटाई भी गयी. जीआरपी ने जब अपनी छानबीन शुरू तो उसकी जांच में जो निकला वो हैरान कर देने वाला था. असल में जीआरपी को पता लगा की भिखारी से हुलिए वाला वो आदमी वो लाखों की संपत्ति का मालिक था.इस व्यक्ति का नाम बिड़दी चंद्र आजाद है और ये मुंबई के गोवंडी इलाके में एक झुग्गी में रहता था.

बिड़दी चंद्र मुंबई की ट्रेनों में भीख मांगता और इसी से अपना गुजारा करता था. बिड़दी चंद्र की गोवंडी और मानखुर्द स्टेशन के बीच पटरी क्रॉस करने के दौरान मौत हो गई थी. जिसके बाद जीआरपी द्वारा उसके शव को बरामद किया गया और उसकी जानकारी जुटाने की कवायद शुरू हुई. रेलवे पुलि ने बिड़दी चंद्र के घरवालों को इसकी जानकारी देने के लिए छानबीन शुरू की तो पता चला कि इस भिखारी के पास सीनियर सिटीजन कार्ड और आधार कार्ड था. यहां तक कि इसके पास पैन कार्ड भी था.

 
जिसके बाद पुलिस गोवंडी में इसके घर की तलाशी लेने पहुंची. जहां पुलिस को लाखों का खजाना मिला. इस भिखारी के घर में पुलिस को पूरे 1.50 लाख के सिक्के मिले. केवल इतना ही नहीं इस भिखारी ने बैंक में फिक्स डिपॉजिट भी करवा रखा था जो 8.77 लाख का है. भिखारी के पास कैश और उसका बैंक बैलेंस देखने के बाद हर कोई हैरान है. उसके आस पास रहने वाले लोग खुद भी हैरान है कि रोटी भी मांगकर खाने वाले इस इंसान के पास आख़िर इतना पैसा कहां से आया.फिलहाल का आलम ये है की अब पुलिस बिड़दी चंद्र के घरवालों के बारे में जानकारी जुटाने में लगी हुई है ताकि वो इस भिखारी की जमापूंजी को उसके घरवालों को सौंप सकें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here