क्या सच में “हाउडी मोदी”कार्यक्रम में भारत का कोई पैसा लगा था ?

1216
President Donald Trump and Indian Prime Minister Narendra Modi walk around NRG Stadium waving to the crowd during the "Howdy Modi: Shared Dreams, Bright Futures" event, Sunday, Sept. 22, 2019, in Houston. (AP Photo/Evan Vucci)

तारीख थी 22 सितंबर. ये वो तारीख रही जब भारत की तरफ पूरी दुनिया की नज़रें थी. नज़रें इसलिए थी क्योंकि इस दिन टेक्सास के ह्यूस्टन में पीएम मोदी का  ‘हाउडी मोदी’ नाम का एक कार्यक्रम था जिसमें अमेरिका में रहने वाले भारतीय मूल के लोगों के अलावा अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी हिस्सा लेने वाले थे.

source-google

पहले बताया गया कि कार्यक्रम में 50 हज़ार लोग ही आ पाएंगे लेकिन मोदी की दीवानगी का आलम ये था कि स्टेडियम में 59 हज़ार से ज़्यादा लोग मौजूद थे और हजारों लोगों ऐसे थे जिन्हें अंदर जगह ना होने की वजह से बाहर ही रुकना पड़ा था. कार्यक्रम में भारतीय पीएम मोदी ने जहां डोनाल्ड ट्रंप को एक मंझा हुआ आदमी बताया वहीं पाकिस्तान को लपेटे में लेते हुए आतंकवाद पर भी ज़ोरदार प्रहार किया.

राष्ट्रपति ट्रम्प ने भी मोदी को करिश्माई लीडर बताते हुए उनकी जमके तारीफें की और भारत अमेरिका को एक मजबूत साथी बताया. ख़ैर यूँ तो इस कार्यक्रम में काफी कुछ हुआ था लेकिन शायद आप सभी लोग उससे जुड़ी ज्यादातर बातें जानते ही हैं तो उस बारे में दिक्कस करके कोई फायदा नही.

source-Vucci

आते हैं सीधे मुद्दे पर. जैसे ही कार्यक्रम खत्म हुआ तो इसकी चिढ़ तो लोगों को होनी ही थी और वो हुई भी कांग्रेसी नेता राहुल गांधी के अलावा सोशल मीडिया पर भी कई लोग ऐसे रहे जो ये पोस्ट करते देखे गए कि अमेरिका में हुए इस कार्यक्रम में भारत सरकार का पैसा लगा है.

source-twiter
source-facebook

पर क्या वाकई ऐसा कुछ हुआ था ?? क्या वाकई,भारत सरकार ने ख़ुद के पैसे पर इस कार्यक्रम को करवाया था ? जवाब है नही.क्योंकि काफी पहले से ही अमेरिका में रहने वाला भारतीय मूल का समुदाय इस आयोजन की तैयारियों में जुटा था और इसके लिए वो आपस में ही फंड इकट्ठा कर रहे थे.

दरअसल अमेरिका के टेक्सास में भारतीय मूल के लोग काफी मात्रा में हैं और वहां की इकॉनमी में काफी अहम भूमिका निभाते हैं.तो उन्होंने फंड को इकट्ठा किया और अमेरिका ने भी इस कार्यक्रम को भारत और अमेरिका के लिहाज से काफी बेहतरीन माना और आयोजन की परमिशन दे दी. 

source-google

ख़ैर, इसके बावजूद भी जब कार्यक्रम में खर्चे पर उंगली उठी तो अमेरिका में भारत के राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला आगे आये और उन्होंने साफ साफ शब्दों में कहा कि हाउडी मोदी कार्यक्रम में टैक्स देने वालों का कोई पैसा नहीं लगा है. श्रृंगला ने बताया कि अमेरिका में रहने वाले भारतवंशियों ने ख़ुद से फंड इकट्ठा करके ये शानदार कार्यक्रम किया और इसमें भारत सरकार का एक भी रुपया नही लगा.

तो कुल मिलाकर कहें तो Howdy Modi  कार्यक्रम में भारत सरकार का पैसा लगने की बात एकदम झूठी है इसलिए उसपर विश्वास ना करे और हो सके तो ऐसा करने वाले के साथ इस पोस्ट का लिंक ज़रूर शेयर कर दे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here